Hindi University | हिन्दी विश्वविद्यालय

ALO BUILDING: 37/2 Bhairab Dutta Lane, Nandibagan, Salkia, Howrah, 711106

Home Notices Photo Gallery Contact

History


There had long been a demand among the Hindi speaking communities of West Bengal for higher studies in their mother tongue. Hindi as a subject at UG and PG levels did exist before. But it was Srimati Mamata Banerjee, the Honb’le Chief Minister of West Bengal, who came forward to fulfill this legitimate demand for Higher Studies in Hindi Medium. Hindi speaking people lie scattered all over the state but their population density, leaving apart the border district Paschim Bardhaman, is mostly found in the districts of Hooghly (South East part), South 24 Parganas, Howrah and Kolkata. The town of Howrah is situated almost at the centre of this radius. No wonder that the State Government has judiciously chosen Howrah as the location of Hindi University and has opened up the entire State for its operational territory. The Hindi University Act (West Bengal Act XXI of 2019), passed by the...
Read More
founder

Dr. C.V. Anand Bose

Hon'ble Chancellor

कुलपति की कलाम | From the desk of the Vice-Chancellor


founder

Prof. V. K Bharty

Vice-Chancellor

हिन्दी विश्वविद्यालय बंगाल का एकमात्र ऐसा विश्वविद्यालय है,जिसका नामकरण भाषा के आधार पर हुआ है। अहिन्दी प्रदेश में इस विशिष्ट प्रयास के लिए पश्चिम बंगाल सरकार की माननीय मुख्यमंत्री को साधुवाद।अतः  इस विश्वविद्यालय का उद्देश्य हिन्दी भाषा तथा अन्य भारतीय भाषाओं के माध्यम से सामाजिक,सांकृतिक लक्ष्य को प्राप्त करते हुए विश्व दृष्टि के निर्माण की ओर अग्रसर होना है। ज्ञान और शिक्षा के मध्य भाषा,सेतु का कार्य करती है। परंतु इस सेतु के निर्माण में समाज के विभिन्न समुदायों की भूमिका महत्त्वपूर्ण होगी।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि देश के निर्माण में एक प्रमुख भूमिका उच्च शिक्षण संस्थानों की रही है। अतः मैं चाहूँगा कि विश्वविद्यालय के शिक्षक,विद्यार्थी,कर्मचारी एवं प्रशासक हिन्दी विश्वविद्यालय की राष्ट्रीय पहचान निर्मित करने में अपना सहयोग करें तथा अन्य संस्थानों को भी शामिल करें।

वर्तमान समय में विश्वविद्यालय के लिए गुणवत्ता और संख्या में संतुलन बनाए रखना एक बड़ी चुनौती है। इस चुनौती को स्वीकार करना हमारा कर्तव्य है।आज कोई भी भाषा अंतर अनुशासनिक अध्ययन से जुड़ेबिना पर विकसित हो सकती है। इसलिए हिन्दी के साथ अन्य मानविकीअध्ययन , विज्ञान एवं तकनीक के अध्ययन की शाखाएँ खोलने की योजना है।

ज्ञान के आदान प्रदान में अनुवाद की भूमिका की अनदेखी नहीं की जा सकती। अतः अनुवाद में स्नातकोत्तर की शुरुआत हो चुकी है। फिर भी हिन्दी के साथ बांग्लातथा अन्य भारतीय  भाषाओं के अनुवाद के पाठ्यक्रम का आरंभ करने की योजना है। विश्वविद्यालय का महत्त्व शोध कार्य से जुड़ा होता है। अतः शीघ्र ही पी-एच॰ डी॰ कोर्स आरंभ करने की योजना है।

विश्वविद्यालय विद्यार्थियों को उपाधि प्रदान करने हैं, उन्हें आत्मनिर्भर होने के लिए प्रेरित करते हैं परंतु आज देश और समाज के निर्माण के लिए बेहतर मनुष्य और बेहतर नागरिकों की ज़रूरत है। मुझे विश्वास है कि  माननीय कुलाधिपति एवं प॰ बं॰ उच्च शिक्षा विभाग के सहयोग से हिन्दी विश्वविद्यालय देश की इस आवश्यकता की पूर्ति में अपनी महत्त्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करने में सफल होगा।

Read More

Notice

  • 21-02-2024 : Distribution of Registration Certificate and Admit Card (Sem I)...View
  • 16-02-2024 : Notice for Rescheduling Sem I,2023 Exam (Paper 101)...View
  • 12-02-2024 : Form Filling of Regular Students (Sem 1, 2023)...View

Announcement

    Tender

    Recruitment

    • 06-08-2023 : Notice for Teacher Engagement...View

    Distinctiveness


    Only University of West Bengal using/promoting Hindi as medium of instruction for higher studies A State University of West Bengal...
    Read More

    Vision


    Expanding further the scope of Higher Education in West Bengal through Hindi as a medium of instruction. Promoting Hindi for...
    Read More

    Aims & Objectives


    Following are the aims and objectives of the Hindi University, as mentioned in the University Act: To promote, propagate and...
    Read More

    Copyright © 2024 - All Rights Reserved - Hindi University
    Developed by: Skill Hut